इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन का हुआ हादसा, 122 लोगों की मौत और 200 से ज्यादा घायल

कानपूर। रविवार सुबह के करीब 3:15 बजे इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गये। ड्राईवर ने ट्रेन में किसी तकनीकी गड़बड़ी के कारण फुल इमरजेंसी ब्रेक लगाये थे, कुछ डिब्बे तो तेज झटका सहन कर गये पर पीछे के डिब्बे इस झटके को बर्दाश्त ना कर सके। पीछे के कुछ डिब्बे तो अपनी लम्बाई से पिचककर आधे हो गये। कई लोग अपने परिवार के लोगो को खो चुके थे। लाशों के टुकड़े यहां वहां बिखरे हुए थे, हर तरफ से अपनों को खोने के दुःख से चीखे सुने दे रही थी। यह हादसा कानपूर से 100Km दूर पुखरायां गांव के पास सुबह 3 बजे हुआ है। अभी तक 122 लोगों की मौत हो चुकी है और 200 से ज्यादा घायल।

1_147960

क्या हुई लापरवाही?

ट्रेन के सवारियों का कहना है की जब झाँसी से ट्रेन रवाना हुई तो डिब्बे सामान्य से ज्यादा आवाज कर रहे थे। जब रेल अफसरों को शिकायत की गई तो उन्होंने इसे नार्मल कह कर टाल दिया।

1_147961

जब डिब्बे ज्यादा आवाज करने लगे तो ट्रेन को 2 बार रोका भी गया लेकिन वापस ट्रेन को चला दिया गया

हादसे के बाद का मंजर

लोगों की लाशें इधर उधर बिखरी पड़ी थी। कई शवों के टुकड़े दिखाई दे रहे थे। लोग अपने परिवार वालों को ढूंढ रहे थे। औरतों के रोने की आवाजे आ रही थी। लोग मलबे में फंसे हुए थे।

2_147962

इस हादसे के आधे घंटे में आये वहां के गांव के लोग और एम्बुलेंस मदद के लिए।

ट्रेन के स्लीपर डिब्बों में सबसे ज्यादा नुक्सान हुआ है। हादसे का कारण अभी पता नही चल पाया है।

2_1479611

आगे की स्लाइड में देखे ट्रेन के हादसे की तस्वीरे…