तो क्या खाली कुर्सियों और विरोध के कारण रैली करने की हिम्मत नही जुटा सके पीएम मोदी?

बहराइच। नोटबंदी से देश की आम जनता बुरी तरह कराह रही है, लोगों का जीना मुहाल हो गया है। नोटबंदी और देश में हो रही उथल-पुथल से आम जनता के बीच पीएम मोदी का प्रभाव घटता जा रहा है। लोग अब पीएम मोदी की रैलीयो में जाने के बजाय उनका विरोध करने लगे है। बहराइच रैली से पहले भी लोगो ने एकजुट होकर ‘मोदी वापस जाओ’ के नारे लगाये थे और पीएम मोदी का पुतला फूंका था। तो क्या यही वजह तो नही पीएम मोदी की बहराइच रैली में न जाने की?

bjp_bahraich245

आपको बता दे की मोदीजी की रविवार को उत्तर प्रदेश के बहराइच में रैली होनी थी जिसकी जबरदस्त तेयारी की गई थी। खबर है की रैली में मंच सजाने के लिए फूल भी थाईलैंड से मंगवाए गए थे। लेकिन कार्यकर्ताओं की उम्मीदों पर पानी तब फिर गा जब आखिरी समय पर पीएम मोदी का रैली स्थल पर आने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। कार्यक्रम रद्द होने के पीछे का कारण दिया गया की मौसम खराब होने की वजह से हेलिकॉप्टर रैली स्थल पर नही उतर सकता जिसके बाद पीएम मोदी ने फोन पर ही रैली को संबोधित किया।

modi-siyachin_65

लोग सवाल यह उठा रहे है की सेना का हेलिकॉप्टर सियाचिन में माइनस 50 डिग्री पर पीएम मोदी को लेकर जा सकता है तो क्या बहराइच का मौसम इतना खराब था की एयरफोर्स का हेलिकॉप्टर वहां नही उतर सकता था? मौसम इतना भी खराब नही था की हेलिकॉप्टर उतर न सके। आर्द्रता के कारण डेनसिटी कम होता है तो उड़ान भरना मुश्किल होता है लेकिन उतरना नही।

स्थानीय नेताओं और अन्य लोगो की माने तो रैली रद्द होने का कारण रैली में पड़ी खाली कुर्सिय और विरोध है। बताया जा रहा है की मोदी की रैली में उम्मीद के मुताबिक भीड़ नही जुट पायी थी। यहां तक की रैली शुरू होने से 30 मिनुत पहले तक अधिकांश कुर्सियां खाली ही पड़ी हुई थी। जब पीएम मोदी का हेलिकॉप्टर रैली स्थल के उपर उड़ता दिख तब जाकर कुछ भीड़ रैली स्थल पर पहुंची थी।

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने भी पीएम मोदी की बहराइच रैली पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा था की पीएम मोदी की वही घिसी-पिटी बात सुनकर लोग काफी निराश हो गए है। बसपा प्रमुख ने कहा की मोदी जी कह रहे है की विपक्ष उन्हें बोलने नही देता, मगर अपने पड़ की गरिमा भूलकर वह गलतबयानी कर लोगो को गुमराह कर रहे है और अपनी जवाबदेही से भाग रहे है।

source: नेशनल दस्तक